गुरुवार, अप्रैल 05, 2007

तुम घर में ना होते जब - संदीप खरे

तुम घर में ना होते जब
दिल टुकडे हो जाता है
जीवन के खुलते धागे
संसार उधड जाता है

आकाश फाडकर बिजली
गिरने सा अनुभव होता
धरती दिशा खोती है
वो चांद बिखर जाता है
तुम घर में ना होते जब

आकर किरन आंगन में
यूँ ही लौट जातें हैं
खिडकी पर थमकर झोंका
बस महक बिना जाता है
तुम घर में ना होते जब

तेरे बाहों में घुलकर
बिते समय की याँदे
सांसों बिन दिल रूक जाये
दिल यूँ ही रूक जाता है
तुम घर में ना होते जब

अब तुम ही बताओ घर को
मैं क्या कहकर समझाऊँ
पूजा घर का दीपक भी
संग मेरे बुझ जाता है
तुम घर में ना होते जब

ना बड़ा हुआ मै अब भी
ना ही स्वतंत्र हुआ हुँ
इतना समझा हूँ तुम बिन
ये जनम अटक जाता है
तुम घर में ना होते जब

---------------------------------------------------------------------
मूल कविता: नसतेस घरी तू जेव्हा
कवि: संदीप खरे
संगीत: सलील कुळकर्णी
हिन्दी भावानुवाद: तुषार जोशी, नागपुर
---------------------------------------------------------------------

आप इस गीत को तुषार जोशी नागपुर की आवाज़ में यहाँ सुन सकते हैं, अवश्य सुने

1 टिप्पणी:

  1. hi there....we dunno each other...but i love Nastes Ghari Tu and just saw this link on orkut....good translation btw!!!!cool...just a clarification....the music is also given by sandeep khare for nastes ghari tu...

    उत्तर देंहटाएं

आपने यह अनुवाद पढा इसलिये आपका बहोत बहोत आभारी हूँ। आपको यह प्रयास कैसा लगा मुझे बताईये। अपना बहुमुल्य अभिप्राय यहाँ लिख जाईये। अगर आप मराठी जानते हैं और आप इस कविता का मराठी रूप सुन चुकें है तब आप ये भी बता सकतें है के मै कितना अर्थ के निकट पहुँच पाया हूँ। आपका सुझाव मुझे अधिक उत्साह प्रदान करेगा।